Golgappa account - girl student who loves Golgappa seller, lover couple absconding
मीरजापुर जिले में अजीबो गरीब मामला सामने आया है जहां गोलगप्‍पा खाते खाते बेचने वाले से ही इश्‍क हुआ और आंखें चार कर बैठी छात्रा गाेलगप्‍पा बेचने वाले के साथ ही फरार हो गई। गाेलगप्‍पे के जायके से इश्‍क तो अमूमन सभी को होता है मगर बेचने वाले के साथ इश्‍क के बाद फरार होने का यह मामला अब प्रेमिका के नाबालिग होने की वजह से सिरदर्द बन गया है। परिजनों को पूरेे घटनाक्रम की जानकारी हुई तो उन्‍होंने सिर पीट लिया।
परिजनों के अनुसार पास मेंं रहने वालेे युवक‍ का बनाया हुआ गोलगप्‍पा किशोरी का पसंद था मगर उनको अंदाजा नहीं था कि गोलगप्‍पा खाते खाते वह गोलगप्‍पा बेचने वाले को भी पसंद करने लगेगी और एक दिन उसके साथ ही फरार भी हो जाएगी
स्‍थानीय लोगों के अनुसार जब प्रेम परवान चढ़ा तो लोकलाज और परिवार की मान मर्यादा को ताक पर रख थाना क्षेत्र के आदर्श नगर पंचायत स्थित एक वार्ड की हाईस्कूल की 17 वर्षीय छात्रा अपने घर के ठीक सामने रहने वाले गोलगप्‍पा विक्रेता युवक के साथ फरार हो गई। पुलिस के अनुसार किशोरी झांसी से आकर किराए के मकान में रहकर लगभग दो वर्षों से ठेला गाड़ी से नगर में गोलगप्पा बेचने वाले युवक के साथ प्रेम कर बैठी और फरार हो गयी।
परिजनों के अनुसार युवक गोलगप्पा खिलाते खिलाते नाबालिग छात्रा को लोक लुुभावन सपना दिखाकर अपने प्रेम जाल में फंसा लिया था। वहींं मंगलवार की देर रात मौका पाकर अपनी प्रेमिका को लेकर प्रेमी युवक रफूूचक्कर हो गया। सुबह परिजनों ने देखा कि किशोरी घर पर नही है तो एक अनजान भय के डर से खोजबीन करने लगे साथ ही एक तांत्रिक के पास भी गये तो तांत्रिक ने बताया कि रात में किशोरी को मुंह बांधकर दो युवक अगवा कर उठा ले गये।
इसके बाद आशंकावश परिजनों ने स्थानीय थाना में तहरीर दिया। तहरीर मिलते ही पुलिस भी सक्रिय हो गयी। वही दोपहर बाद किशोरी को भगा कर ले जाने वाले युवक ने अपने प्रेमिका के घर फोन कर कहा कि मैंं झांसी जा रहा हूं परेशान न हो जिस पर परिजनों ने कहा जहां हो वहींं रूक जाओ, हम लोग आ रहे है। वहींं कस्बा चौकी प्रभारी सुरेन्द्र कुमार सिंह ने बताया परिजन थाने पर आकर मुकदमा नही लिखने के लिए कह रहे हैंं। बहरहाल उसके बावजूद भी पुलिस किशोरी को बरामद करने के लिए लगी हुयी है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.