कानपुर के होटल व्यवसायियों ने किया चीनियों का बहिष्कार, नहीं देंगे रुकने को रूम
भारत चीन तनाव के बीच उत्तर प्रदेश के कानपुर में चीनी उत्पादों के बहिष्कार की मांग
शहर के होटल व रेस्टारेंट कारोबारियों ने चीनी आगंतुकों से दूरी बनाने का फैसला किया है। चीन से आने वाले लोगों को न ही होटल में कमरा दिया जाएगा और न ही उनकी एडवांस बुकिंग की जाएगी।
कारपोरेट बैठक की भी अनुमति नहीं होगी। कारोबारियों ने यह निर्णय स्वेच्छा से लिया है। इसके अलावा सभी पदधिकारियों और सदस्यों को इस निर्णय का सर्कुलर जारी कर दिया गया है। कानपुर होटल, गेस्टहाउस, स्वीटस एंड रेस्टारेंट एसोसिएशन के अध्यक्ष सुखवीर सिंह मलिक और महामंत्री राजकुमार भगतानी ने बताया कि शहर में चमड़ा, रेडीमेड कपड़े व टैक्सटाइल का बड़े स्तर पर काम होता है।
चीन से बड़े पैमाने पर केमिकल, मशीनें और कच्चा माल आता है। शहर के कारोबारी चीन से आने वाले लोगों को शहर के होटलों में ठहराते हैं। इसके अलावा मोबाइल और इलेक्ट्रानिक्स कंपनियों की साल भर में कई कई कॉरपोरेट मीटिंग भी इन होटलों में होती है।
इनमें बड़ी संख्या में चीनी प्रतिनिधि शिरकत करते हैं। अब तय हुआ कि चीन से आने वाले लोगों की होटलों में बुकिंग नहीं होगी। यदि वो आ भी जाते हैं तो कमरें नहीं दिए जाएंगे। उनका कहना है कि चीन ने गलवां घाटी में देश के जवानों के साथ कायराना हरकत की है।
कानपुर समेत देशभर में चीनी उत्पादों के बहिष्कार की मांग तेजी से उठ रही है। एसोसिएशन के टास्क फोर्स प्रभारी गगन सेठी और एसोसिएशन के उत्तर क्षेत्र के अध्यक्ष प्रवीण अग्रवाल ने बताया कि चीन के किसी भी नागरिक की शहर के किसी भी होटल व रेस्टारेंट में प्रवेश नहीं दिया जाएगा। सभी ने स्वेच्छा से यह निर्णय किया है।
R J दीपक वर्मा✍️

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.