चेतेश्वर पुजारा
भारत के पूर्व कप्तान और दिग्गज खिलाड़ी राहुल द्रविड़ का टेस्ट क्रिकेट में एक खास योगदान है उनकी कुछ यादगार पारियों की बदौलत उन्हें टीम इंडिया में दीवार का नाम दिया गया था। द्रविड़ के संन्यास लेने के बाद हमेशा उनके जैसे किसी खिलाड़ी की तलाश रही है।
हालांकि अब वो कमी नम सिर्फ पुजारा पूरी करते दिख रहे हैं बल्कि उनके और द्रविड़ के बीच गजब का संयोग भी देखने को मिल रहा है। अभी हाल ही में जब पुजारा ने इस मैच की पहली पारी में 5 हजार रन पूरे किए तो उनके और द्रविड़ की पारियों की संख्या भी समान थी।
इसके अलावा 4 हजार और तीन हजार रन बनाने में भी दोनों ने उतने ही मैच खेले थे। अब जब टीम इंडिया इस मुकाबले को जीत गया है तो फिर इन दोनों खिलाड़ियों का एक संयोग देखने को मिला है।
एडिलेड के मैदान पर खेले गए 4 टेस्ट मैचों की सीरीज के पहले मुकाबले में विराट सेना ने 31 रनों से मेजबान ऑस्ट्रेलिया को पटखनी देते हुए इतिहास रच दिया है। भारत ने इस मैदान पर 15 साल बाद मुकाबला जीतकर एक नया कीर्तिमान भी रच दिया है,
इसके अलावा भारत कभी भी ऑस्ट्रेलिया की धरती पर टेस्ट सीरीज का पहला मुकाबला नहीं जीता था ऐसे में विराट सेना ने आज बदलाव की बुनियाद तैयार कर दी है। इस मैच में जीत के हीरो रहे चेतेश्वर पुजारा को मैन ऑफ द मैच के खिताब से नवाजा गया। इसके चलते पुजारा और द्रविड़ के बीच फिर एक संयोग देखने को मिला जो साबित करता है कि इतिहास अपने को दोहराता रहता है।

दरअसल भारत एडिलेड के मैदान पर भारत ने 15 साल बाद मुकाबला जीता है। इससे पहले 2003 में जब भारत जीता था तो उस मैच के हीरो राहुल द्रविड़ ही थे जिन्होंने पहली पारी में दोहरा शतक और दूसरी पारी में अर्धशतक जड़ा था, जबकि
पुजारा ने भी इस मुकाबले की पहली पारी में 123 रनों की और दूसरे मैच में 71 रनों की पारी खेली, जिसकी बदौलत विराट सेना ने इतिहास रचा। वहीं द्रविड़ को भी उनकी इस पारी के लिए मैन ऑफ द मैच का खिताब मिला था और पुजारा को भी मिला।
बीसीसीआई ने इन दोनों तस्वीरों को साझा किया है।
इस मुकाबले में भारत ने टॉस जीकतर पहले बल्लेबाजी करने का फैसला लिया था और पुजारा के शतक के चलते पहली पारी में 250 रन बनाए थे जबकि
यह भी पढ़ें: गवर्नर सत्यपाल मलिक ने अपनी और पर‍िवार की सुरक्षा के लिए नई फोर्स बनाई
इसके जवाब में मेजबान टीम 235 के स्कोर पर ही सिमट गई। वहीं दूसरी पारी में भारत ने रहाणे और पुजारा के अर्धशतक के चलते 323 रनों का लक्ष्य ऑस्ट्रेलिया को दिया था। इसके जवाब में ऑस्ट्रेलिया की टीम 291 रन पर सिमट गई।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.