जीतू मलिक
बुलंदशहर। आईजी एसटीएफ अमिताभ यश ने इसकी पुष्टि की है। इससे पहले जांच कर रही एसआईटी की रिपोर्ट के बाद शनिवार को बुलंदशहर एसएसपी, स्याना सीओ और चिंगरावठी चौकी प्रभारी को हटा दिया गया।
बुलंदशहर. उत्तरप्रदेश के बुलंदशहर में हुई हिंसा के मामले में आर्मी ने मुख्य आरोपी जीतेंद्र मलिक को शनिवार देर रात यूपी एसटीएफ को सौंप दिया।
आर्मी चीफ बिपिन रावत ने इस मामले में पुलिस का पूरा सहयोग करने की बात कही थी। जिले के स्याना इलाके के चिंगरावठी गांव में 3 दिसंबर को कथित गोकशी के बाद भड़की हिंसा में इंस्पेक्टर सुबोध और गांव के युवक सुमित की मौत हो गई थी।
वायरल वीडियो में कट्टे के साथ दिखा था सैनिक
यूपी डीजीपी के प्रवक्ता आरके गौतम ने बताया था कि एक वीडियो वायरल हो रहा है और इसमें जितेंद्र नाम का जवान कट्टे के साथ दिखाई दे रहा है। शक है कि यह घटनास्थल पर मौजूद था।
जीतू वारदात के बाद अपनी यूनिट के लिए जम्मू रवाना हो गया। यूपी की स्पेशल इन्वेस्टीगेशन टीम ने सेना के अधिकारियों से बातचीत के बाद उसे (जीतू) गिरफ्तार करने के लिए टीम जम्मू रवाना की थी।
उधर, उत्तरप्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने बुलंदशहर में पुलिस इंस्पेक्टर सुबोध कुमार सिंह की हत्या को महज हादसा करार दिया। उन्होंने दावा किया कि यूपी में मॉब लिंचिंग जैसी कोई घटना नहीं हुई।
बुलंदशहर में सोमवार को गोकशी के शक में हिंसा फैली थी। आरोप है कि इसकी अगुआई बजरंग दल के नेता योगेश राज ने की थी। पुलिस ने दो एफआईआर दर्ज की हैं।
पहली एफआईआर योगेश की शिकायत पर गोकशी की है। इसमें सात लोगों के नाम हैं। वहीं, दूसरी एफआईआर हिंसा और इंस्पेक्टर की हत्या के मामले में दर्ज की गई है।
यह भी पढ़ें: राजनीति physics सिद्धान्तों पर नहीं चलती है, बल्कि chemistry के रिएक्शन पे चलती है: अमित शाह
इसमें 27 के नाम हैं, 60 से ज्यादा अज्ञात हैं। अब तक इस मामले में 9 लोगों को गिरफ्तार किया जा चुका है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.