मुख्य चुनाव
नई दिल्ली. अगले वर्ष होने वाले लोकसभा चुनाव 62 वर्षीय पूर्व नौकरशाह अरोड़ा की निगरानी में होंगे। लोकसभा चुनाव के अलावा 2019 में जम्मू कश्मीर, ओडिशा, महाराष्ट्र, हरियाणा, आंध्र प्रदेश, अरूणाचल प्रदेश और सिक्किम में होने वाले विधानसभा चुनाव भी उनके ही कार्यकाल के दौरान संपन्न होंगे।
उनका कार्यकाल अक्टूबर,2021 तक होगा।
देश के 23वें मुख्य चुनाव आयुक्त के रूप में रविवार को कार्यभार संभालने वाले सुनील अरोड़ा ने चुनावों को ‘‘पूरी तरह से स्वतंत्र, निष्पक्ष और नैतिक’’ बनाने के लिए राजनीतिक दलों और लोगों से सहयोग करने का आग्रह किया। अरोड़ा, ओपी रावत के स्थान पर मुख्य चुनाव आयुक्त बने है। रावत कल इस पद से सेवानिवृत्त हुए हैं।
कार्यभार संभालने के बाद नये मुख्य चुनाव आयुक्त ने ‘‘चुनावों को पूरी तरह से स्वतंत्र, निष्पक्ष, शांतिपूर्ण और नैतिक बनाने में’’ सभी हितधारकों-राजनीतिक पार्टियों, मीडिया, नागरिक समाज संगठनों और लोगों से सहयोग करने का अनुरोध किया। बता दें कि अरोड़ा 31 अगस्त,2017 को चुनाव आयुक्त नियुक्त हुए थे। वह सूचना एवं प्रसारण सचिव और कौशल विकास एवं उद्यमिता मंत्रालय में सचिव रहे थे।
राजस्थान कैडर के 1980 बैच के आईएएस अधिकारी अरोड़ा वित्त, कपड़ा जैसे मंत्रालयों और योजना आयोग में भी कार्यरत रहे थे। उन्होंने नागरिक उड्डयन मंत्रालय में 1999-2002 के बीच संयुक्त सचिव और पांच वर्षों (अतिरिक्त प्रभार के रूप में दो वर्ष और पूर्ण प्रभार के रूप में तीन वर्ष) के लिए भारतीय एयरलाइन्स के सीएमडी के रूप में अपनी सेवाएं दीं।
यह भी पढ़ें: फारूख अब्दुल्ला ने पाक अधिकृत कश्मीर को बताया पाकिस्तान का हिस्सा!
राजस्थान में धौलपुर, अलवर, नागौर और जोधपुर में जिला तैनातियों के अलावा अरोड़ा 1993-1998 के दौरान मुख्यमंत्री के सचिव भी रहे थे। वह (2005-2008) के दौरान मुख्यमंत्री के प्रधान सचिव भी रहे थे। उन्होंने सूचना एवं जनसंपर्क (आईपीआर), उद्योग और निवेश विभागों को भी संभाला था।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.