Horse dogs
गुजरात/वडोदरा। चिड़ियाघर के क्यूरेटर प्रत्यूष पाटनकर ने बताया कि यहां कमाटीबाग इलाके में करीब 43 एकड़ क्षेत्र में फैले इस चिड़ियाघर के आसपास सड़कों पर फिरने वाले
चार आवारा कुत्ते सुबह पांच से सात बजे के बीच विश्वामित्र नदी की ओर से दीवाल कूद कर करीब 700 वर्ग मीटर में बने काले हिरणों के बाड़े में घुस गए। उनके हमले में छह काले हिरणों (स्थानीय भाषा में कलियार) की मौत हो गई।
शहर में शुक्रवार को आवारा कुत्तों ने मशहूर सयाजीबाग चिड़ियाघर में घुस कर इसमें रखे 11 काले हिरणों में से 6 को मार डाला तथा दो अन्य को गंभीर रूप से घायल कर दिया।
दो अन्य की हालत चोट और डर से गंभीर है जबकि बाकी तीन सुरक्षित हैं। यहां एक बाड़े में आठ और दूसरे बाड़े में 3 काले हिरण थे। रात के अंधेरे में कुत्तों के हमले से बचने के लिए हिरण डर के मारे बाड़े में दौड़ते रहे।
सुरक्षा जवान बातचीत करने में मशगूल थे। उधर, दूसरे प्वाइंट पर तैनात एक सिक्युरिटी गार्ड तुरंत दौड़ कर वहां आया और कुत्तों को मार कर चिड़ियाघर से बाहर खदेड़ा।
मृत हिरण के शव को पोस्ट मार्टम और विशेरा के लिए ले जाया गया। कमाटीबाग चिड़ियाघर में ही मृत हिरणों का अग्निदाह किया गया। इसकी रिपोर्ट सेंट्रल जू अथॉरिटी को भेजी जाएगी।
कमाटीबाग चिड़ियाघर में सिक्युरिटी गार्ड को हर आधे घंटे में नाइट पेट्रोलिंग करना जरूरी है। जबकि रात 12 बजे के बाद इस आदेश का पालन नहीं होता है। शुक्रवार को 6 काले हिरण इसी लापरवाही के शिकार हुए। ड्यूटी में लापरवाही करने वाले सुरक्षा जवानों से कड़ी पूछताछ हो रही है।
चिड़ियाघर में सुरक्षा का जिम्मा संभालने वाली निजी सिक्युरिटी एजेंसी ग्रुप-7 के दो जवानों की लापरवाही से 6 काले हिरण की मौत हो गई। इस मामले को पालिका ने गंभीरता से लिया है।
घटना के बाद पालिका आयुक्त अजय भादू ने चिड़ियाघर के क्यूरेटर प्रत्यूष पाटनकर के साथ चिड़ियाघर का दौरा किया। क्यूरेटर ने कहा कि इस प्रकार की लापरवाही बर्दाश्त नहीं की जाएगी।
चिड़ियाघर के आसपास घूमने वाले आवारा कुत्तों को मारने की है छूट
सेंट्रल जू अथॉरिटी के निर्देशानुसार चिड़ियाघर के आसपास आवारा कुत्ते नहीं होने चाहिए। वन्य प्राणियों की सुरक्षा पर ध्यान देना जरूरी है।
यह भी पढ़ें: दो ट्रॉलों की टक्कर में, चालक-खलासी जिंदा जले; चपेट में आई कार में बैठे बाप-बेटी की भी मौत
चिड़ियाघर के आसपास घूमने वाले आवारा कुत्तों को मारने की दी गई है। महानगर पालिका की ओर से कभी-कभार कुत्तों को पकड़ने की कार्रवाई भी की जाती है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.