पुलिस ने
एटा के थाना कोतवाली देहात में दरोगा ने अवैध तरीके से पुलिस हिरासत में लेकर युवक को रस्सी से बांधकर उल्टा लटका कर इतना पीटा कि उसकी हालत बिगड़ गई। पीड़ित युवक को जिला चिकित्सालय में भर्ती कराया गया है। कई बार अधिकारियों से शिकायतों के बाद भी अधिकारियों ने पीड़ित पक्ष की एक न सुनी।
जनपद के थाना कोतवाली देहात क्षेत्र के ग्राम चुन्नपुरा निवासी चरन सिंह व मानपाल पुत्रगण महेंद्र पाल को बीस दिन से थाना कोतवाली देहात पुलिस अवैध रूप से कस्टडी में थाने में बैठाए दो सगे भाइयों में से एक को पुलिस ने उल्टा लटका कर पीटा। उसकी हालत बिगड़ जाने के बाद मजबूरी में थाना पुलिस ने उसे जिला चिकित्सालय एटा में भर्ती कराया, जहां उसकी हालत गंभीर बनी हुई है।
जिला चिकित्सालय में भर्ती चरण सिंह ने बताया, “थाने में तैनात दरोगा राजेश द्वारा मुझे व मेरे भाई मानपाल को 20 दिनों से थाने में बैठाए हुए हैं। बीते दिन मुझे हाथ पैर बांधकर कमरे में छत में कुंदे से लटकाकर बुरी तरह से पीटा गया।
दरोगा मुझसे बच्चे के अपहरण करने की बात कहलवाना चाहता था, जो मैंने नहीं मानी।” बताते-बताते चरण सिंह फूट-फूट कर रोने लगा। प्रभारी निरीक्षक कोतवाली देहात अनूप भारती ने बताया कि बीते 10 अक्टूबर को गांव के वीरेंद्र सिंह के आठ वर्षीय बच्चे का अपहरण हो गया था जिसकी रिपोर्ट थाने में दर्ज की गई थी।
मोनू के बाबा ने भोपाल में चरण सिंह व मानसिंह पर संदेह व्यक्त कर एक दूसरा प्रार्थना पत्र दिया था जिसके आधार पर उनसे पूछताछ कर रही है तथा वह बीते दो दिनों से छुट्टी पर था आज ही वापस आया है उसे ज्यादा जानकारी नहीं है कि चरण सिंह के साथ क्या हुआ।
यह भी पढ़ें: अमर सिंह ने आरएसएस के संगठन को दान कर दी, अपनी सारी पैतृक संपत्ति
घटना की शिकायत उसके भाई ने लिखित तहरीर देकर वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक आशीष तिवारी से की है, जिसमें चरन सिंह को पुलिस कस्टडी में उल्टा लटका कर मारपीट करने की व झूठे केस में फंसाने की एक शिकायत की गई है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.