गार्ड की
लखनऊ,। वॉशरमैन मनजिंदर सिंह ने अपनी लाइसेंसी पिस्टल से खुद को गोली मारी, जबकि उसकी राइफल भी पास में रखी थी। 
केंद्रीय रिजर्व पुलिस बल (सीआरपीएफ) के एक जवान ने आज (शुक्रवार) लखनऊ के ग्रुप सेंटर में खुद को गोली मार ली। फायर की आवाज सुनकर परिसर में खलबली मच गई।
भागते हुए मौके पर उसके साथी पहुंचे। फर्श पर खून अौर जवान को गिरा देख हैरान रह गए। आननफानन में उसे पास के अस्पताल लेकर पहुंचे, लेकिन रास्ते में ही उसने दम तोड़ दिया।

मामला सरोजनीनगर स्थित सीआरपीएफ के ग्रुप सेंटर का है। यहां सिपाही (वॉशरमैन) मनजिंदर सिंह ने सेंटर में ही तैनात गार्ड विजय कुमार लांबा की सर्विस नाइन एमएम पिस्टल से खुद को गोली मार ली।
फायर की आवाज सुनकर परिसर में खलबली मच गई। भागते हुए मौके पर पहुंचे सीआरपीएफ जवानों ने पुलिस कंट्रोल रूम सूचना देने के साथ ही आननफानन में परिसर स्थित विभागीय अस्पताल ले गए,
जहां डॉक्टरों ने उसे मृत घोषित कर दिया। सूचना मिलने के बाद पहुंची पुलिस ने शव को पोस्टमॉर्टम के लिए भेज दिया।

पुलिस के मुताबिक, वॉशरमैन मनजिंदर सिंह यूनिट नंबर 224 की बैरक नंबर तीन में रहता था।
जवान ने अपने साथी की पिस्टल से खुद को गोली मारी है। उसके सिर पर गोली लगने से मौत हुई है।
पुलिस को छानबीन के दौरान घटना में प्रयुक्त पिस्टल के खोखे गार्ड रूम में पड़े मिले। मैगजीन में चार जिंदा कारतूस और एक कारतूस रायफल के चेंबर में फंसा मिला।पुलिस ने अपने कब्जे में ले लिए हैं।
फिलहाल पुलिस घटना की जांच में जुट गई है। उधर, सीआरपीएफ के अधिकारी कुछ भी बोलने को तैयार नहीं हैं।

पंजाब अमृतसर के रहने वाले मनजिंदर सिंह की उम्र करीब 32 वर्ष थी। कमांडर लाल प्रताप सिंह ने बताया कि मौत के स्पष्ट कारणों का पता नहीं चल सका है।
परिवारीजनों से बात की जा रही है मृतक के पास से कोई सुसाइड नोट भी नहीं मिला है। फॉरेंसिक टीम ने पिस्टल को जांच के लिए अपने कब्जे में लिया है।
लखनऊ में सीआरपीएफ के ग्रुप सेंटर में जवानों की आत्महत्या का सिलसिला जारी है।
यह भी पढ़ें: हेलमेट नहीं लगाने वालों को ‘यमराज’ सिखाएंगे सबक
बता दें, इससे पहले भी 25 अगस्त को इसी सेंटर में मेरठ निवासी जवान अरविंद कुमार सिंह की संदिग्ध हालत में मौत हो गई थी।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.