गैस सिलेंडर
टैक्स और ड्यूटी के साथ आधार मूल्य के अलावा बॉटलिंग प्लांट से दूरी के आधार पर एक शहर से दूसरे शहर में एलपीजी सिलेंडर का दाम अलग होता है। बिदार में एलपीजी सप्लाई बेलागवी बॉटलिंग प्लांट से होती है। पब्लिक सेक्टर की तीन तेल मार्केटिंग कंपनियों द्वारा पूरे राज्य में ऐसे 11 प्लांट स्थापित किए गए हैं।
गैस सिलेंडर के मूल्यों में यह वृद्धि तब हुई है, जब हाल ही में पेट्रोल और डीजल की कीमतों में क्रमश: 7.50 रुपये और 4 रुपये की कमी की गई है। बता दें कि घरेलू एलपीजी सिलेंडर की कीमत पेट्रोल डीजल की तरह प्रतिदिन नहीं, बल्कि महीने में तय की जाती है। देश की जनता पर एक बार फिर से महंगाई की मार पड़ी है।
कर्नाटक के करीब सभी इलाके में बिना सब्सिडी वाले घरेलू सिलेंडर (14.2 किलो) की कीमत 1000 रुपये के आसपास पहुंच चुकी है। वहीं, बिडार में एक सिलेंडर 1015.50 रुपये में बेचा जा रहा है। बेंगलुरू में बिना सब्सिडी वाला घरेलू सिलेंडर को 941 रुपये में मिल रहा है। मंगलुरू (बॉटलिंग प्लांट के नजदीक) सिलेंडर 921 रुपये में बेचा जा रहा है।
इसी तरह हुबली में 962 रुपये और बेलागवी में 956 रुपये में एक सिलेंडर उपभोक्ताओं को मिल रहा है। जबकि, इसी साल अप्रैल महीने में बिना सब्सिडी वाले घरेलू सिलेंडर की कीमत बेंगलुरू में 654 रुपये, मंगलुरू में 630 रुपये, हुबली में 670 रुपये और बेलागवी में 666 रुपये थी। बिदार में उस समय यह कीमत 721 रुपये थी।
बता दें कि पेट्रोलियम मंत्रालय ने वर्ष 2015 में डीबीटी स्कीम लागू की थी। इस स्कीम के तहत उपभोक्ताओं को अब गैस खरीदने वक्त ही पूरे पैसे देने होते हैं। बाद में उनके खाते में सब्सिडी के पैसे जमा होते हैं। तीन साल पहले करीब 350 रुपये में मिलने वाले गैस सिलेंडर की कीमत अब 1000 रुपये तक पहुंच चुकी है।
हालांकि, सब्सिडी की रकम भी गैस सिलेंडर का मूल्य बढ़ने के अनुसार बढ़ती है। सरकार की योजना घरेलू गैस सब्सिडी खत्म करने की है। खुद प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने देश के सक्षम नागरिकों से गैस सब्सिडी छोड़ने की अपील की है।
हालांकि, ऑनलाइन बुकिंग में होने वाले बदलाव के कारण कभी गलत बटन दब जाने की वजह से उपभोक्ताओं को मिलने वाली सब्सिडी बंद हो जा रही है।
यह भी पढ़ें: तुलसीराम प्रजापति एनकाउंटर के मुख्य साजिशकर्ता अमित शाह और तीन IPS, जांच अफसर ने कोर्ट में किया दावा
ऐसे में सबसे ज्यादा महंगाई की मार इन उपभोक्ताओं पर पड़ रही है। इन्हें बिना सब्सिडी वाले मूल्य पर सिलेंडर खरीदने पड़ रहे हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here