गोरखपुर,। रेलमंत्री पीयूष गोयल की पहल पर देश के प्रमुख 75 ए वन श्रेणी के स्टेशनों पर तिरंगा झंडा लहराने की तैयारी है।
इसमें पूर्वोत्तर रेलवे के मुख्यालय गोरखपुर सहित लखनऊ और छपरा जंक्शन भी शामिल हैं।
विश्व के सबसे लंबे रेलवे प्लेटफार्म का दर्जा हासिल कर चुके गोरखपुर को अब एक और पहचान मिलने जा रही है। गोरखपुर के रेलवे स्टेशन के प्लेटफार्म पर 100 फीट ऊंचा तिरंगा लहराएगा।
देश के प्रमुख बड़े रेलवे स्टेशनों पर राष्ट्रीय झंडा लहराने के लिए रेलमंत्री ने ट्विटर पर अपनी सहमति प्रदान कर दी है। इसके लिए उन्होंने दिसंबर के अंत तक देश के सभी 75 रेलवे स्टेशनों पर तिरंगा फहराने का लक्ष्य निर्धारित किया है।
इस संबंध में जल्द ही सभी जोनल कार्यालयों को लिखित दिशा-निर्देश मिल जाएगा। फिलहाल, रेलमंत्री के ट्वीट को रेलवे प्रशासन ने गंभीरता से ले लिया है।
मौखिक तैयारी शुरू हो गई है, ताकि निर्देश मिलने के बाद आगे की प्रक्रिया तत्काल प्रभाव से शुरू की जा सके।
दीनदयाल उपाध्याय गोरखपुर विश्वविद्यालय के मुख्य द्वार पर पहले से ही 100 फीट ऊंचा तिरंगा लहरा रहा है। 19 जून, 2018 में मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने इसका ध्वजारोहण किया था।
यह गोरखपुर शहर ही नहीं पूर्वाचल का सबसे ऊंचा तिरंगा है। रामगढ़ताल पर भी लगभग 150 फीट ऊंचा तिरंगा लहराने की कवायद चल रही है।
नौका बिहार के पास इसका बेस भी लगभग तैयार कर लिया गया है। लेकिन वहां तिरंगा कब फहराएगा इसकी अभी तक कोई जानकारी नहीं मिल पाई है।
यह भी पढ़ें: भारत सरकार की फेसबुक से डेटा की मांग हर साल लगातार बढ़ रही
अभी तो सिर्फ रेलवे स्टेशनों पर तिरंगा लहराने की तैयारी चल रही है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here