सबरीमाला पर
एक ऑडियो टेप सामने आया है जिसमें केरल बीजेपी प्रमुख पी एस श्रीधरन पिल्लई कथित तौर पर पार्टी के यूथ विंग के कार्यकर्ताओं से कह रहे हैं कि प्रदर्शनों के पीछे बीजेपी थी। पिल्लई यह दावा करते हुए भी सुनाई देते हैं कि
उन्होंने मंदिर के तंत्री या मुख्य पुजारी कंडारू राजीवारू को सलाह दी थी कि मंदिर के गर्भगृह का दरवाजा ‘बंद’ करवाना ‘कोर्ट की अवमानना नहीं है।’ बता दें कि पिछले महीने हुए प्रदर्शनों के बीच तंत्री ने धमकी दी थी कि अगर 10 से 50 साल की उम्र की महिलाओं ने घुसने की कोशिश की तो वह गेट बंद करवा देंगे।
पिल्लई रविवार को कोझीकोड में भारतीय जनता युवा मोर्चा की एक बैठक को संबोधित कर रहे थे। उन्होंने अपने बयान का यह कहते हुए बचाव किया है कि ‘सलाह देने में कोई हर्ज नहीं है।
सबरीमाला मंदिर में महिलाओं की एंट्री के खिलाफ हुए प्रदर्शन के मामले में केरल में राजनीतिक बवंडर खड़ा हो गया है।
हालांकि, केरल के सीएम और सीपीएम नेता पी विजयन ने बीजेपी को निशाने पर लिया। वहीं, सीपीएम के राज्य सचिव कोडियेरी बालाकृष्णन ने बीजेपी प्रमुख की टिप्पणी के मामले में ‘उच्च स्तरीय जांच’ की मांग की।
ऑडियो क्लिप में पिल्लई कहते हुए सुनाई देते हैं, ‘हमने जो एजेंडा सामने रखा, हर किसी ने उसे फॉलो किया। हमारे सामने हार मानने के बाद सभी एक के बाद एक मौके से निकल गए।…मलयालम महीने में हुए प्रदर्शन की योजना अधिकतर बीजेपी की थी।’ बता दें कि पिछले महीने दो महिलाएं मंदिर के नजदीक पहुंच गई थीं।
तंत्री के कॉल का जिक्र करते हुए पिल्लई ने कहा, ‘तंत्री ने जब मुझे कॉल किया तो उसने पूछा कि दरवाजा बंद करना सुप्रीम कोर्ट की अवमानना नहीं होगी? लेकिन मैंने उन्हें बताया कि यह कोर्ट की अवमानना नहीं है और
अगर अदालत अवमानना में कोई ऐक्शन लेने का फैसला करता है तो वह सबसे पहले हमारे खिलाफ होगा। तंत्री, आप अकेले नहीं हो, यहां हजारों लोग हैं। मैंने उनसे ऐसा कहा। उन्होंने मुझसे कहा कि उन्हें मेरी बातों का भरोसा है।’
पिल्लई से जब उनके कथित टिप्पणी के बारे में पूछा गया तो उन्होंने कहा, ‘यह एक सार्वजनिक संबोधन था और बयानों में कुछ भी विवादास्पद नहीं है। मैं एक वकील हूं और मंदिर के पुजारी समेत बहुत सारे लोग कानूनी सलाह लेने के लिए मुझसे संपर्क करते हैं।
सुझाव देने में कोई बुराई नहीं है। मैं इससे ज्यादा और कोई सफाई नहीं देना चाहता।’ वहीं, पिल्लई की टिप्णी पर विजयन ने टि्वटर पर लिखा कि सबूत सामने आए हैं कि
बीजेपी नेताओं ने सबरीमाला में मुश्किलें पैदा करने की साजिश रची। यह ध्यान दिए जाने योग्य है कि उनके राज्य प्रमुख भी इसमें शामिल हैं। बता दें कि सोमवार को ही मंदिर दो दिनों के लिए खुला है।
यह भी पढ़ें: मेहुल चौकसी का नजदीकी कुलकर्णी कोलकाता एयरपोर्ट से गिरफ्तार

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.