मुख्यमंत्री से
लखनऊ ,। प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष राजबब्बर ने कहा कि उत्तर प्रदेश की राजधानी लखनऊ वारदातों की राजधानी बन गई है। प्रदेश के अन्य जिलों में भी लगातार बढ़ते अपराधों से जनता त्राहिमाम कर रही है।
लोग डरे-सहमे हैं। एक तरफ जहां आत्ममुग्ध मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ अल्टीमेटम देकर भूल जाते हैं वहीं दूसरी तरफ उनके अल्टीमेटम की धज्जियां उड़ाई जा रही हैं।
कुर्सी बचाने के लिए दिन-रात भाजपा के चुनावी सरोकारों में जुटे मुख्यमंत्री से उत्तर प्रदेश संभाले नहीं संभल रहा है।
राजबब्बर ने कहा कि जहां प्रदेश के मुख्यमंत्री अपराधियों को पकड़ने के लिए पुलिस को अल्टीमेटम देते हैं वहीं लखनऊ में लूट और हत्या के अपराधियों तक पुलिस नहीं पहुंच पा रही है।
राजधानी में दिनदहाड़े अपराधी खुलेआम अपराध कर रहे हैं, अपराधियों के हौसले इस कदर बुलंद है कि जहां चाहते हैं वारदात को अंजाम देकर भाग जाते हैं और
पुलिस लकीर पीटती रहती है। राजधानी ही नहीं प्रदेश के दूसरे जिलों में भी अपराध चरम पर पहुंच गया है।
प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष ने कहा कि लखनऊ न सिर्फ प्रदेश की राजधानी है बल्कि देश के गृह मंत्री का संसदीय क्षेत्र भी है।
ऐसे में अतिसंवेदनशील क्षेत्र लखनऊ में सरकार की नाक के नीचे जिस प्रकार हत्या, लूट और बलात्कार की घटनाएं हो रही हैं वह शर्मनाक है।
जिस तरह पुलिस, सरकार के सामने बगावत पर उतर आयी उससे साबित होता है कि पुलिस प्रशासन पर सरकार का नियंत्रण नहीं रह गया है।
सरकार का इकबाल खत्म हो चुका है। सुशासन और भयमुक्त समाज का नारा देकर सत्ता में आई भाजपा के डेढ़ वर्ष के शासन में
यह भी पढ़ें: निर्भया फंड स्कीम से लखनऊ बनेगा महिलाओं के लिए और भी सुरक्षित
उत्तर प्रदेश की जनता कुशासन और भययुक्त समाज में जीने के लिए मजबूर है। 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.