रुपया
बुधवार के कारोबार में भारतीय रुपये ने एक बार फिर से डॉलर के मुकाबले 74 का स्तर पार कर लिया। आज दिन के कारोबार में रुपया 43 पैसे टूटकर 74.11 के स्तर पर जा पहुंचा,
वहीं दिन के 12 बजे रुपया डॉलर के मुकाबले 74.04 के स्तर पर कारोबार करता देखा गया। रुपये में यह कमजोरी आयातकों की ओर से अमेरिकी करेंसी (डॉलर) की बढ़ी मांग के कारण देखने को मिली।
फॉरेक्स ट्रेडर्स का मानना है कि दुनिया की तमाम मुद्राओं के मुकाबले डॉलर की मजबूती और सरकार एवं आरबीआई के बीच जारी तनातनी के चलते घरेलू मुद्रा पर असर पड़ा है।
इंटरबैंक फॉरेन एक्सचेंज पर रुपया 73.91 पर खुलने के बाद कुछ ही देर में 43 पैसे टूटकर 74.11 के स्तर पर पहुंच गया।
फॉरेक्स ट्रेडर्स का मानना है कि क्रूड की स्थिर कीमतों ने हालांकि कुछ हद तक रुपये की गिरावट को रोके रखा है।
फिलहाल वैश्विक स्तर पर डब्ल्यूटीआई क्रूड की कीमत 66.46 डॉलर प्रति बैरल और क्रूड की कीमत 76.38 डॉलर प्रति बैरल है।
  • मंगलवार को रुपये में 23 पैसे की गिरावट आई थी और इसी के साथ यह डॉलर के मुकाबले 73.68 पर पहुंच गया। ये महीना खत्म होने को और है और अब तक इसमें डॉलर के मुकाबले 1.5 फीसद की गिरावट आ चुकी है।
  • पिछले हफ्ते आरबीआई ने कहा था कि वो नवंबर महीने के दौरान सिस्टम में 40,000 करोड़ रुपये की नकदी डालेगा।
  • इस बीच सोमवार को जापान और भारत के बीच करेंसी स्वैप के लिए 75 बिलियन डॉलर का द्विपक्षीय समझौता हुआ है। भारत सरकार का कहना है कि करेंसी स्वैप एग्रीमेंट की मदद से फॉरेन एक्सचेंज और देश के कैपिटल मार्केट को अधिक मजबूती देने में मदद मिलेगी।
प्रोविजनल डेटा के मुताबिक औसत रुप से विदेशी निवेशकों ने इक्विटी मार्केट से 1,592.02 करोड़ रुपये की निकासी की है।
यह भी पढ़ें: कानपुर: कोचिंग संचालक को घर के पास बदमाशों ने मारी गोली
आज भारतीय शेयर बाजार ने भी सपाट शुरुआत की है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.