जहरीली हवा
विश्व स्वास्थ्य संगठन के अनुसार हर साल दुनिया में 70 लाख लोग सामान्यतौर पर सांस लेने से मारे जा रहे हैं।
वायु प्रदूषण को नए किस्म की तंबाकू बताते हुए संस्था ने चेताया है कि
दुनिया की 91 फीसद आबादी आज विषैली वायु की चपेट में है।
वायु प्रदूषण से सबको नुकसान होता है, लेकिन विकसित होते अंगों वाले बच्चों और शिशुओं के लिए यह विषैली हवा बहुत खतरनाक है।
दुनिया में 30 करोड़ लोग ऐसी जगहों पर रहते हैं जहां विषैली हवा का स्तर अंतरराष्ट्रीय मानकों से छह गुना ज्यादा है।

वायु प्रदूषण से हर साल होने वाली अनमोल मानव संसाधन की मौतें और उनके इलाज में खर्च की रकम बहुत अधिक है। विश्व बैंक का अध्ययन बताता है कि
हर साल दुनिया को इस मद में पांच लाख करोड़ डॉलर की चपत लगती है। प्रदूषण करने वाले उद्योगों को बंद करके, यातायात के स्वच्छ ईंधन वाले माध्यमों को अपनाकर न
केवल हम इस महामारी को रोक सकते हैं बल्कि जलवायु परिवर्तन की गहराती समस्या का भी समाधान पा सकते हैं।

जेनेवा में अगले सप्ताह डब्ल्यूएचओ वायु प्रदूषण और स्वास्थ्य पर पहला वैश्विक सम्मेलन करने जा रहा है।
इस सम्मेलन में भाग लेने वाले सभी देशों से वायु प्रदूषण को कम करने के लिए प्रभावी कदम उठाए जाने की अपील की जाएगी।
यह नई तंबाकू और कोई नहीं जहरीली हवा है जिसे दुनिया में अरबों लोग सांस के साथ अंदर लेते हैं।
यह भी पढ़ें: यूपी डीजीपी ने महिला पुलिसकर्मी के काम के प्रति समर्पण की तारीफ की
चाहे अमीर हो या गरीब, कोई भी वायु प्रदूषण से नहीं बच सकता। जन स्वास्थ्य के लिए यह खामोश आपातकाल है।
डॉ टेड्रोस अधानोम घेब्रेयेसस
महानिदेशक, विश्व स्वास्थ्य संगठन

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.