यूपी बोर्ड
माध्यमिक शिक्षा परिषद ने कई विषयों में ‘खंड’ सिस्टम को खत्म कर दिया है। प्रश्नों को लंबी सीरीज को छोटी कर अंकों की संख्या बढ़ा दी है। इसके लिए परिषद ने प्रश्न पत्र का मॉडल पेपर भी जारी किया है।
संयुक्त निदेशक, डीआईओएस को ई-मेल के जरिए मिले मॉडल पेपर को जल्द से जल्द सभी स्कूलों में भेजने के निर्देश दिए गए हैं। ताकि शिक्षक छात्रों को बोर्ड परीक्षा की तैयारी करा सकें।
मंडलीय विज्ञान प्रगति अधिकारी डॉक्टर दिनेश कुमार के अनुसार पेपर में सवाल कम और नंबर ज्यादा होने से छात्रों को मनोवैज्ञानिक फायदा मिलेगा और उनका आत्मबल बढ़ेगा।
सीबीएसई की तरह सर्वोच्च अंकों की श्रेणी में यूपी बोर्ड के छात्रों की संख्या भी बढ़ेगी।
इसके अलावा माध्यमिक शिक्षा परिषद के स्कूलों में एनसीईआरटी के सिलेबस को लागू किया गया है। परीक्षा पेटर्न में बदलाव के साथ पहले के मुकाबले कम दिनों में परीक्षा कराने का भी निर्णय लिया गया है।
माध्यमिक शिक्षा परिषद की सचिव नीना श्रीवास्तव ने इंटर विज्ञान व कला वर्ग के 40 मुख्य विषयों के मॉडल पेपर जिले को जारी कर दिए हैं। हालांकि हाईस्कूल के लिए दो ही मॉडल पेपर भेजे गए हैं।
विज्ञान विषय में तीन अंकों के सवालों के बढ़ाकर पांच अंकों के सवाल कर दिए गए हैं। छात्रों को प्रमुख विषय जैसे जीव विज्ञान में सिर्फ नौ सवाल,
यह भी पढ़ें: कांग्रेस विधायक ने मोदी को बताया ‘डेंगू मच्‍छर’, बोलीं- कीटनाशक छिड़किए
रसायन विज्ञान में सात सवाल, भौतिक विज्ञान में सिर्फ नौ ही सवालों का जवाब देना होगा। यहां बता दें कि रसायन विज्ञान में पहले दस सवाल होते थे और
अधिकतम नंबर तीन होते थे, जिन्हें बढ़ाकर पांच कर दिया गया है।

यह भी पढ़ें: डोनाल्‍ड ट्रंप गणतंत्र दिवस समारोह में हिस्‍सा नहीं लेंगे , ठुकराया मोदी का न्‍यौता

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here