मेरठ कैंट
स्वाट टीम व कोतवाली देहात पुलिस की टीम ने शुक्रवार देर रात पाकिस्तान की खुफिया एजेंसी आइएसआइ के एजेंट को गिरफ्तार किया है। पकड़े गए आरोपित के कब्जे से पुलिस ने गोपनीय एवं प्रतिबंधित दस्तावेज और प्रतिबंधित क्षेत्र के नक्शे बरामद किए हैं। पकड़े गए आरोपित से खुफिया एजेंसी पूछताछ में जुटी है।
इस सूचना पर आरोपित की गिरफ्तारी को स्वाट टीम प्रभारी विवेक शर्मा व कोतवाली देहात इंस्पेक्टर तपेश्वर सागर को टीम सहित लगाया गया। शुक्रवार रात करीब साढ़े दस बजे मुखबिर की सूचना पर बुलंदशहर के भूड़ चौराहे के पास से आरोपित को गिरफ्तार कर लिया गया।
उसके कब्जे से गोपनीय एवं प्रतिबंधित दस्तावेज और प्रतिबंधित क्षेत्र के नक्शे, एक मोबाइल, वोटर आईडी कार्ड, आधार कार्ड व 2540 रुपये बरामद हुए। 
शनिवार को बुलंदशहर कोतवाली देहात में प्रेसवार्ता में एसपी सिटी डा. प्रवीन कुमार रंजन ने बताया कि खुफिया विभाग से सूचना मिली कि खुर्जा नगर का रहने वाला एक व्यक्ति पाकिस्तान की खुफिया एजेंसी आइएसआइ के एजेंट के रूप में काम कर रहा है।
वह भारतीय सैन्य गतिविधियों व प्रतिबंधित गोपनीय दस्तावेज एवं सैन्य ठिकानों के नक्शे व महत्वपूर्ण जानकारियों की सूचना इकट्ठी कर विभिन्न माध्यमों से पाकिस्तान भेज रहा है।
खुर्जा निवासी जाहिद का मुख्य टारगेट मेरठ कैंट और गाजियाबाद स्थित एयर फोर्स का हिंडन एयरबेस था। इसलिए वह माह में तीन से चार बार मेरठ आता था और गाजियाबाद हिंडन एयरबेस पर सात से आठ बार जाता था।
आरोपित के मोबाइल में मेरठ कैंट, गाजियाबाद हिंडन एयरबेस की कुछ तस्वीरें भी मिली हैं। वहीं उसने वाट्सएप और स्काइप कॉल के जरिए आरोपित ने कई बार पाकिस्तान में वीडियो कॉल की हुई है। पुलिस सूत्रों का कहना है कि आरोपित के पास से मिले मोबाइल में मेरठ के रहने वाले कई युवकों के नंबर भी मिले है, जो जांच के घेरे में है।

मेरठ कैंट

इसके अलावा पुलिस यह भी पता लगाने में जुटी है कि हाल ही में पकड़े गए सेना के जासूस कंचन से तो उसका कोई संपर्क नहीं था। आरोपित के पास एक बैग मिला है, जिसमें मेरठ और गाजियाबाद जिले का नक्शा भी है। उसके पास से नकदी भी मिली है।
पुलिस सूत्रों के अनुसार पाकिस्तान आइएसआइ एजेंट जाहिद हर महीने मेरठ आता था। वह मेरठ कैंट के कई सैन्य इकाइयों के आसपास दिनभर मंडराता था और वाट्सएप कॉल करके मेरठ कैंट के क्षेत्र को पाकिस्तान में दिखाता था।
खुर्जा पुलिस ने आरोपित का मोबाइल नंबर चेक किया तो पता चला कि उसके मोबाइल में पाकिस्तान के 19 नंबर सेव हैं। पुलिस और खुफिया जांच एजेंसी पता लगा रही है कि इनमें आइएसआइ सदस्यों के कितने नंबर हैं। शनिवार सुबह आरोपित से दिल्ली से भी एक जांच एजेंसी पूछताछ के लिए आ सकती है।
एसपी सिटी ने बताया कि जाहिद से पूछताछ में उसके दो साथियों के भी देश विरोधी गतिविधियों में शामिल होने की जानकारी मिली है। इनकी गोपनीय रूप से जांच की जा रही है। जाहिद के खिलाफ कोतवाली देहात में शासकीय गुप्त अधिनियम के तहत मुकदमा दर्ज किया गया है। 
पकड़े गए आरोपित का नाम जाहिद पुत्र अलीम निवासी मोहल्ला तरीनान निवासी खुर्जा है। एसपी सिटी ने बताया जाहिद से पूछताछ में पता चला कि वह दो बार 2012 व 14 में पाकिस्तान गया था। उसी दौरान वह पाक एजेंसी आइएसआइ के संपर्क में आया।
पाक एजेंसी ने उसे भारत के महत्वपूर्ण ठिकानों एवं गोपनीय दस्तावेजों की जानकारी उपलब्ध कराने का टास्क दिया था। इसके बाद से वह वाट्सएप के माध्यम से पाकिस्तान को जानकारी भेजता रहा।
इस सूचना पर आरोपित की गिरफ्तारी को स्वाट टीम प्रभारी विवेक शर्मा व कोतवाली देहात इंस्पेक्टर तपेश्वर सागर को टीम सहित लगाया गया। शुक्रवार रात करीब साढ़े दस बजे मुखबिर की सूचना पर बुलंदशहर के भूड़ चौराहे के पास से आरोपित को गिरफ्तार कर लिया गया।
उसके कब्जे से गोपनीय एवं प्रतिबंधित दस्तावेज और प्रतिबंधित क्षेत्र के नक्शे, एक मोबाइल, वोटर आईडी कार्ड, आधार कार्ड व 2540 रुपये बरामद हुए। 
पुलिस सूत्रों की माने तो जाहिद पर क्राइम ब्रांच पिछले कई माह से नजर रखे हुए थी। आसपास के लोगों से जानकारी जुटाई तो पता चला कि जाहिद बेहद गरीब हुआ करता था। वह मजदूरी करता था, लेकिन कम समय में ही उसने आलीशान मकान बना लिया।
इसके बाद क्राइम ब्रांच बुलंदशहर को पता चला कि वह पाकिस्‍तान भी गया था। उसका नंबर सर्विलांस पर लेकर लगातार सुना गया तो शक यकीन में बदल गया कि आइएसआइ एजेंट है।
फिलहाल पुलिस पूछताछ करने की बात कर रही है। उनका कहना है कि जाहिद से काफी कुछ अहम जानकारी हाथ लग सकती है, जो देश की सुरक्षा के लिहाज से बेहद अहम है।
खुफिया एजेंसी की गिरफ्त में आया जाहिद नौवीं पास है। वह पॉटरी नगरी में क्राकरी उत्पादों पर पेंटिंग करता था। वह छह भाइयों में सबसे छोटा है और उसने अभी तक शादी नहीं की।
यह भी पढ़ें: महिलाओं के प्रवेश का विरोध कर रहे सबरीमाला के भक्तों के साथ है भाजपा: अमित शाह
परिजनों ने बताया कि आजादी के समय बंटवारे के दौरान उनके नाना-नानी, मामू पाकिस्तान चले गए थे। उनसे मिलने के लिए दो बार जाहिद पाकिस्तान गया था। लगभग दस वर्ष पहले उनके मामू भी उनसे मिलने के लिए खुर्जा आए थे।
जाहिद के पकड़े जाने की खबर से उसके परिजन और पड़ोसी हैरान हैं। उनके अनुसार जाहिद पिछले गुरुवार से घर नहीं आया था। उन्हें यकीन नहीं हो रहा कि जाहिद किसी एजेंसी से संपर्क में होगा। 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.