दर्शकों ने
मुंबई,। बॉक्स ऑफ़िस पर आयुष्मान खुराना को बधाइयां मिलने का सिलसिला ख़ूब ज़ोर-शोर से जारी है। कौशिक परिवार के घर आये नन्हे मेहमान से मिलने के लिए दर्शकों में ख़ूब उत्साह है,

 

जिसके चलते रिलीज़ के सिर्फ़ 3 दिनों में ‘बधाई हो’ ₹31 करोड़ से अधिक कलेक्शन कर चुकी है। फ़िल्म की इस रफ़्तार को देखते हुए ट्रेड जानकारों ने 100 करोड़ क्लब में जाने की भविष्यवाणी कर दी है।
अमित आर शर्मा निर्देशित बधाई हो साल 2018 की उन फ़िल्मों में शामिल है, जिन्होंने अपने कंटेंट के दम पर अपनी साख बनायी और धाक जमायी है।
18 अक्टूबर को रिलीज़ हुई बधाई हो ने ₹7.29 करोड़ की असाधारण ओपनिंग ली, हालांकि ट्रेड के जानकारों ने ₹5-6 करोड़ का ही अनुमान लगाया था।
दूसरे दिन यानि 19 अक्टूबर को दशहरे की छुट्टी में बधाई हो के लिए दर्शक सिनेमाघरों में टूट पड़े और शुक्रवार को ₹11.67 करोड़ का कलेक्शन हुआ, जो ओपनिंग के मुकाबले तकरीबन 60 फीसदी का उछाल था।
आंकड़ों की यह बढ़त रिलीज़ के तीसरे दिन यानि शनिवार को जारी रही और बधाई हो ने ₹12.50 करोड़ का कलेक्शन किया। यानि रिलीज़ के 3 दिनों में बधाई हो के खाते में ₹31.46 करोड़ पहुंच चुके हैं।
‘बधाई हो’ पहले 19 अक्टूबर को रिलीज़ होने वाली थी, मगर इसे एक दिन पहले 18 अक्टूबर को रिलीज़ किया गया, जिसके चलते फ़िल्म को 4 दिनों के ओपनिंग वीकेंड मिला है।
जानकार मानते हैं कि रविवार की कमाई मिलाकर बधाई हो पहले वीकेंड में ₹45 करोड़ के आस-पास जमा कर सकती है। इस आधार पर फ़िल्म का 100 करोड़ क्लब में पहुंचना तय माना जा रहा है। बस देखना यह है कि कितने दिन लगते हैं।
‘बधाई हो’ एक मध्यमवर्गीय परिवार की कहानी है, जो एक बेहद सामाजिक मुद्दे को एड्रेस करती है। जवान बच्चों के माता-पिता अगर संतानोत्पत्ति करते हैं, तो इसे हमारे समाज में सही नहीं समझा जाता।
तरह-तरह की बातें की जाती हैं, मज़ाक उड़ाया जाता है। शादी की उम्र के बच्चों को ख़ुद यह बात बड़ी अजीब लगती है कि उनके माता-पिता यह क़दम कैसे उठा सकते हैं।
बधाई हो ऐसी ही सोच पर मज़ाकिया अंदाज़ में आघात करती है। इस फ़िल्म के नायक आयुष्मान खुराना हैं, जबकि उनके साथ सान्या मल्होत्रा हैं,
जिन्होंने आमिर ख़ान की फ़िल्म ‘दंगल’ से डेब्यू किया था और विशाल भारद्वाज की फ़िल्म ‘पटाख़ा’ में लीड रोल में नज़र आयीं।
‘बधाई हो’ में आयुष्मान के माता-पिता के रोल में नीना गुप्ता और गजराज राव हैं। दादी के किरदार में वेटरन एक्टर सुरेखा सीकरी को नज़रअंदाज़ नहीं किया जा सकता। 
बहरहाल, आयुष्मान खुराना के लिए यह जॉनर नया नहीं है। इससे पहले ‘शुभ मंगल सावधान’ और ‘विक्की डोनर’ जैसी फ़िल्मों के ज़रिए वो भारतीय समाज में यौन से जुड़ी मान्यताओं और पूर्वाग्रहों को पर्दे पर पेश कर चुके हैं।
आयुष्मान ने वक़्त के साथ ख़ुद को बतौर बॉलीवुड एक्टर स्थापित किया है। उनकी फ़िल्म का चयन उनकी सबसे बड़ी ताक़त है।
बधाई हो से पहले आयुष्मान खुराना की अंधाधुन 5 अक्टूबर को आयी थी, जिसे श्रीराम राघवन ने निर्देशित किया था।
यह भी पढ़ें: सपा में अब ‘चुगलखोरों’ और ‘चापलूसों’ का राज है: शिवपाल सिंह यादव
इस फ़िल्म को भी क्रिटिक्स ने ख़ूब सराहा और बॉक्स ऑफ़िस पर भी फ़िल्म ₹50 करोड़ से अधिक कारोबार कर चुकी है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here