पीलीभीत
पीलीभीत, । धरती के भगवान कहे जाने वाले डॉक्टरों ने ही महज पांच सौ रुपये न देने पर इंसानियत को शर्मसार कर दिया। प्रसव कराने आई गर्भवती से उठक-बैठक लगवाई व भारी भरकम बेंच उठवाई।

 

इससे गर्भस्थ की मौत हो गई। परिजनों ने गर्भवती को प्रताडि़त करने व गलत उपचार करने का आरोप लगाते हुए मुख्यमंत्री को शिकायती पत्र लिखा है
कोतवाली क्षेत्र के गांव रम्पुरा निवासी प्रीतमराम की पत्नी राम लडै़ती ने मुख्यमंत्री को भेजे शिकायती पत्र में बताया कि 12 अक्टूबर को गर्भवती पुत्रवधू पुष्पा देवी को प्रसव के लिए सीएचसी में भर्ती कराया था।
वहां मौजूद स्टाफ ने सभी जांच कराने के बाद महिला की स्थिति समान्य बताई। आरोप है कि प्रसव कक्ष में स्टाफ ने गर्भवती महिला से उठक-बैठक लगवाई व भारी भरकम बेंच उठवाई।
इससे गर्भवती की हालत बिगड़ गई। हालत बिगडऩे पर घबराए स्टाफ ने परिजनों से पांच सौ रुपये मांगे। आरोप है कि रुपये न देने पर महिला को ड्रिप लगा दी, जिसमें एक इंजेक्शन डाल दिया।
कुछ देर बाद अस्पताल पहुंची दूसरी स्टाफ नर्स ने गर्भस्थ शिशु की मौत होने की जानकारी दी। साथ ही गर्भवती को पीलीभीत ले जाने को कहा।
काफी खुशामत करने के बाद स्टाफ ने सीएचसी में प्रसव कराया। इसमें मृत बच्ची पैदा हुई।
परिजनों पर सीएचसी स्टाफ पर गर्भवती को प्रताडि़त करने और इलाज में लापरवाही के गंभीर आरोप लगाते हुए कार्रवाई की मांग की है।

यह भी पढ़ें: सलमान खान के फीमेल डॉग ‘My Love’ का हुआ निधन

“मामले की शिकायत मिली है। आरोपों की जांच की जा रही है। इसके बाद ही कार्रवाई होगी।,,
-डॉ. छत्रपाल, सीएचसी के प्रभारी चिकित्साधिकारी

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.