ब्रेन की सर्जरी
जयपुर/राजस्थान। जयपुर के नारायणा अस्तपाल में 30 साल के एक मरीज की पूरे होश में ब्रेन सर्जरी की गई। इस दौरान मरीज हनुमान चालीसा पढ़ता रहा।
अस्पताल के न्यूरो सर्जन डॉ. केके बंसल ने बताया कि मरीज का नाम हुलास मल जांगीर है। इसे पिछले तीन महीने से मिर्गी की समस्या थी।
डॉक्टर्स का दावा है कि राजस्थान में इस तरह की यह पहली सर्जरी है।सर्जरी करीब तीन घंटे चली और ऑपरेशन के 72 घंटे बाद मरीज को अस्पताल से छुटटी दे दी गई।
,डॉ. बंसल ने बताया कि सर्जरी के दौरान मरीज से गाना गाने और सुनाने के लिए कहा जाता है।
हुलास ने हनुमान चालीसा पढ़ना तय किया। मरीज की प्रतिक्रिया से हमें सर्जरी को बेहतर करने में मदद मिलती है।
डॉ. बंसल ने बताया कि हुलास को ग्रेड-2 का ट्यूमर था। यह ट्यूमर स्पीच वाले हिस्से में था। सर्जरी में उनके बोलने की क्षमता जाने और लकवे का खतरा था।
यह भी पढ़ें: मेरा किसी भी फिल्म पर रोक का इरादा नहीं: मुख्यमंत्री कमलनाथ
इसलिए अवेक क्रानियोटोमी (ब्रेन सर्जरी) करने का फैसला किया गया। इसमें मरीज के होश में रहते हुए सर्जरी की जाती है। जिस हिस्से का ऑपरेशन किया जाना होता है,
वहीं एनेस्थीसिया दिया जाता है। इस सर्जरी का सबसे बड़ा फायदा यह है कि रिकवरी जल्दी होती है और रिस्क फेक्टर भी कम होते हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here