बीआरडी मेडिकल
गोरखपुर। उत्तर प्रदेश के गोरखपुुुर अस्पताल जिनकी पहचान उनकी स्वच्छता पर ज्यादा निर्भर करती है लेकिन गोरखपुर शहर में स्थित बीआरडी मेडिकल कॉलेज में अव्यवस्थाओं का अंबार देखने को मिला।
यहां गाईनाकोलॉजी वार्ड जहां स्त्री रोग एवं प्रसव संबंधी महिलाओं को इस जनरल वार्ड में शिफ्ट किया जाता है।

यह भी बता दें कि प्रसव पश्चात माँ और बच्चे को भी इसी जनरल वार्ड में शिफ्ट किया जाता है।
लेकिन आश्चर्य की बात यह है कि उक्त वार्ड के मध्य से आखिरी छोर पर टूटे,उखड़े और सड़े गले गद्दे लगे बेड देखने को मिलेंगे।
बता दें कि थोड़ा और आगे बढ़ेंगे तो कूड़े से भरा एक हॉल जहां कोई शौचालय न होने के कारण उसी वार्ड के ही मरीज उस कूड़े से भरे हाल में अपना मल-मूत्र भी विसर्जित करते है।
बड़े आश्चर्य की बात है कि उत्तर प्रदेश के यशस्वी मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ जो गोरखपुर जिले से ही संबंध रखते है। क्या अधिकारियों या कर्मचारीयों को मुख्यमंत्री का कोई भय नही है?
क्या ये अव्यवस्थाएं कहीं न कहीं मुख्यमंत्री योगी की छवि खराब नही करती?
बीजेपी जिसका नारा है ‘स्वच्छ भारत मिशन’ जो प्रधानमंत्री मोदी जी का भी सपना है लेकिन इस सपने को पलीता लगाने में अधिकारी और कर्मचारी पूरी लगन से लगे हुए हैं। और कहीं न कही ये योगी-मोदी की छवि को धूमिल करने का भी काम कर रहे हैं।
यह भी बताते चलें कि जगह-जगह लगभग सभी वार्डो के पास आवारा कुत्ते भी आपको घूमते नजर आ जायेंगे। जो कूड़े के ढेर में मुँह घुसेड़ते दिखाई दे जाएंगे तथा
कहीं न कहीं ये नवजात शिशुओं के लिए भी खतरा है और क्या केवल एक ज्ञान भरा पोस्टर मात्र चिपका देने से संबंधित अधिकारियों और कर्मचारीयों की जिम्मेदारी समाप्त हो जाती है?
यह भी पढ़ें: सिर्फ माल्या और नीरव मोदी जैसे लोगों की हितैषी है मोदी सरकार: प्रवीण तोगड़िया
कुछ समय पहले की बात है पटना के एक अस्पताल से एक आवारा कुत्ता एक मरीज की कटी टांग लेकर भाग गया था। तो क्या यही घटना बीआरडी में भी घटित होने का इंतजार किया जा रहा है?

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.