जयपुर। विद्याधर नगर इलाके में रविवार अलसुबह एक आलीशान मकान में फिर आग लग गई। आग लगते ही घर में पला कुत्ता भागने की जगह अपने मालिक के कमरे में घुस गया और धुएं के कारण बेहोश हुए अपने मालिक को खींचकर बाहर निकालने का प्रयास करता रहा,
लेकिन सफल नहीं हुआ और धुएं के कारण दोनों की दम घुटने से मौत हो गई। वहीं, आग लगने से हल्ला मचने पर आसपड़ौस के लोग जाग गए। तत्काल पुलिस, फायर ब्रिगेड और सिविल डिफेंस को सूचना दी।
इसके बाद लोगों ने आपदा कर्मचारियों के साथ मिलकर घर में फंसे मकान मालिक की पत्नी, बेटे व घरेलू नौकर को सकुशल बाहर निकालकर उनकी जान बचा ली।
हादसा अंबाबाड़ी में दुर्गा पार्क के सामने प्लॉट नंबर ई-86 निवासी संजीव कुमार ओहलान के मकान में हुआ। वह पत्नी सुमन रैना के साथ मिलकर एक ईवेंट कंपनी चलाते है। शनिवार रात को संजीव अपने पालतू कुत्ते के साथ घर की पहली मंजिल पर कमरे में सो रहे थे।
उनका नौकर जयसिंह दूसरी मंजिल पर और पत्नी सुमन व बेटा पक्षित ग्राउंड फ्लोर पर कमरे में सो रहे थे। रविवार अलसुबह करीब पांच बजे मकान की पहली मंजिल पर एक कमरे में भीषण आग लग गई। घर में तेजी से धुआं फैला तब पीछे के कमरे में सो रहे संजीव की आंख खुल गई।
उन्होंने अपने कमरे का दरवाजा खोला तब धुआं उनके कमरे में भर गया। इससे वे बेहोश होकर गिर गए। इसी बीच हल्ला मचने पर दूसरी मंजिल पर सो रहा नौकर जयसिंह भी जाग गया। वे सब चिल्लाने लगे। इसी बीच आग और धुआं के तेजी से फैलने पर आस-पड़ौस के लोगों की नींद खुली।
उन्होंने पुलिस व फायर ब्रिगेड को सूचना दी। इसके विद्याधर नगर थाना पुलिस व वीकेआई तथा बनीपार्क से चार दमकलें मौके पर पहुंची। दमकलकर्मियों ने स्थानीय लोगों के साथ मिलकर घर में ग्राउंड फ्लोर पर सो रहे संजीव की पत्नी सुमन व बेटे को सकुशल बाहर निकाला।
इस बीच आग को बुझाने का काम शुरू हुआ। दमकलकर्मी पहली मंजिल पर पहुंचे तब कमरे में अचेत पड़े संजीव और दूसरी मंजिल पर मौजूद नौकर जयसिंह को निकालकर घर से बाहर लाए। उन्हें तत्काल अस्पताल पहुंचाया। बताया जा रहा है कि तब तक संजीव का शरीर धुएं से काला पड़ चुका था।
अस्पताल में उपचार के दौरान डॉक्टरों ने संजीव ओहलान को मृत घोषित कर दिया। चीफ फायर ऑफिसर जगदीश फुलवारी के मुताबिक संभवतया आग मकान में शार्ट सर्किट की वजह से लगी, जिसने तत्काल सोफे और अन्य फर्नीचर को चपेट में ले लिया। वहां रखे एयरकंडीशन ने भी आग पकड़ ली।
इससे ज्वलनशील गैस व धुंए से दम घुटने पर मकान मालिक संजीव ओहलान की मौत हो गई। विद्याधर नगर थाने के सबइंस्पेक्टर मोतीलाल ने बताया कि आग के कारणों की पुख्ता जांच के लिए एफएसएल टीम को मौके पर बुलाया गया है। पुलिस ने शव का पोस्टमार्टम करवाकर परिजनों को सौंप दिया।
पड़ोसियों ने बताया कि ब्रोनो काफी वफादार था। आग लगने के बाद वह घर से बाहर नहीं भागा। वह कमरे में अचेत पड़े अपने मालिक संजीव को खींचकर बाहर लाने का प्रयास कर रहा था। वह वहीं बैठा रहा। इससे धुआं से दम घुटने पर ब्रोनो की भी मौत हो गई।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.